शनिवार, 6 जून 2009

प्यार

इस ज़माने में सभी प्यार करते हैं
कुछ इकरार, तो कुछ इजहार करते हैं,
कुछ ऐसे भी शख्स हैं यहाँ ,
जो इससे इंकार भी करते हैं,
कुछ प्रेम पत्रों के सहारे करते हैं,
कुछ गीतों, नज्मों से करते हैं,
कुछ दिल से करते हैं ,
कुछ दिल ही में करते हैं,
कुछ शौक के लिए करते हैं ,
कुछ शौक के लिए बेचते हैं,
तरीके चाहे जो भी हों ,
मगर वो प्यार करते हैं,

प्यार तो वही रहता है जनाब,
बस उसकी खुशबू बदल जाती है।

9 टिप्‍पणियां:

woyaadein ने कहा…

तो लीजिये जनाब हम भी ये इकरार करते हैं कि हम आपकी कविताओं से प्यार करते हैं......

साभार
हमसफ़र यादों का.......

vandana ने कहा…

bilkul sahi kaha aapne ....

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत बढिया रचना है।बधाई।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह क्या कहा है.......प्यार तो वाही रहता है खुशबू बदल जाती है...............
प्यार तो सचमुच प्यार है हो जाए तो फिर क्या ............ सुन्दर लिखा है

raj ने कहा…

pyarr wahi rahta hai....khusboo badal jatee hai....boht sunder..

Priya ने कहा…

han hum bhi ikrar karte hain..... ki is duniya mein sabhi pyaar karte hain

महफूज़ अली ने कहा…

baat to sahi hai........


Dear fren....plz do follow my blog also......

Pyaasa Sajal ने कहा…

maine is post ko padhne ke baad aapki kuch aur posts padhee...dekha ki "bharatvaasi" jaisi kavita aapne aaj se kai saal pehle likhi thi...imaandaari se kahoonga,bura mat maaniyega par aapki kuch rachnaao ko dekhke saaf maloom ho raha hai ki aap apne is rachna se kahin behtar kavi hai...main aapki soch aur bhavnaao ki kadr karta hoon jo aapne yahaan pesh kiye,magar kuch expressions "kuch ikraar karte hai to kuch izhaar karte hai" ....Sorry bro...am sure you are better than this...

I do hope aap mere is comment ko positive way me lenge...main ek formal sa comment deke nikal sakta tha...but after reading some of ur stronger compositions...

milan ने कहा…

i m impressed my dear but can u xplain me ki pyar ko becha kaise ja sakta hai??? i think pyar is not bikau....... focus n xplain it