बुधवार, 7 सितंबर 2011

बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं,

बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं,
कभी सुलगती हैं, कभी बरसती हैं,
कभी किसी महबूब सी,
जिस्म छूकर गुजरती हैं
हरेक जिदगी में ही जाने अनजाने ,
अक्सरहां अपनी दखल रखती हैं
बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं।

इक अजनबी एहसास,
नए रिश्ते की शुरुआत ,
नन्ही बूंदों की छुअन,
गीले वसन में लिपटा बदन,
धुले पेड़ों के टपकने की आहट,
किसी के भींगे आँचल की सरसराहट ,
फुसूं ता-हद्दे-नजर हरेक शय करती है।
बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं ।

ऑफिस की आखिरी बस,
बिखरी यादों का स्वागत,
किसी के आने का इंतजार ,
मदमस्त मौसमी बहार,
किसी की गहरी उदासी,
कोई दीवारे-फ़रामोशी,
अक्सरहां चाय -पकौड़े संग खिड़कियों में कैद करती हैं।
बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं।

-नवनीत नीरव-

8 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 08 -09 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज ... फ़ोकट का चन्दन , घिस मेरे नंदन

Dr.Nidhi Tandon ने कहा…

सही कहा..बारिशें बहुत कुछ जोड़ती हैं..तोडती हैं ..भिगोती है..न जाने क्या क्या तय करती हैं

Vandana Singh ने कहा…

बारिश का सुंदर बखान ....

रजनीश तिवारी ने कहा…

बारिशें बहुत कुछ तय करती हैं ...सुंदर रचना

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बढ़िया सर।

सादर

सदा ने कहा…

बारिशों के साथ यह जोड़ना घटाना बहुत ही बढि़या ... ।

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति।