शनिवार, 4 अप्रैल 2009

स्वप्न सुंदरी

हरी -हरी वादियों में ,
दूधिया आँचल लहराते,
दूर से,
भागी चली आती हो ,
मन की कल्पनाओं से,
आंखों में उतर आती हो ।
लगता है अभी,
मेरे कानों ने सुनी,
तुम्हारी खिलखिलाहट,
जैसे मन्दिर में एक साथ,
घंटियाँ खनखनाती हों ।
शीतल मंद हवा ने,
चुपके से मुझसे कहा,
तुम मेरे पास ही हो,
मैं आवाज देता हूँ,
तुम्हें,
पर गहरी चुप्पी,
शायद तुम शर्माती हो ।

-नवनीत नीरव-

4 टिप्‍पणियां:

Reecha Sharma ने कहा…

prabhu kis k liye likhi hai . bahut hi achchi , saral aur spasht. mujhe bahut pasand aayi. bahut zyaada achchi lagi .

Reecha Sharma ने कहा…

prabhu kis k liye likhi hai . bahut hi achchi , saral aur spasht. mujhe bahut pasand aayi. bahut zyaada achchi lagi .

mark rai ने कहा…

swapnsundri...ek aasha ka hi naam hai jo aapne bataya hai...ummid hai ...aap kamyaab rahege...jindagi hasin ho jayegi...mai to shubhkamna de sakta hoon ...aisi hi rachna likhte rahe...ham jarur aayegen didar karne..

sujata ने कहा…

Great poetry!! loved the last lines, keep writing! cheers